खास खबरछत्तीसगढ़

अपराधी ने जमानत पर छूटते ही दोहराया अपराध

अपराधी ने जमानत पर छूटते ही दोहराया अपराध,सेलून संचालक को ज़िंदा जलाने की कोशिश

रायपुर: बिलासपुर जिले के मुंगेली के मनुराज टॉकीज के मैनेजर को आग लगाकर जान से मारने के आरोप में जेल में बंद आरोपी ने एक बार फिर एक युवक को आग लगाकर मारने की कोशिश की है।

आरोपी लगभग डेढ़ महीने पहले ही जमानत पर जेल से बाहर आया है। आरोपी जब तक आग लगा पाता इससे पहले ही पीड़ित सैलून दुकानदार भागकर थाने पहुंचा और अपनी जान बचाई।

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले आरोपी जरीकेन में पेट्रोल लेकर पहुंचा और सैलून में तोड़फोड़ कर युवक के ऊपर पेट्रोल उड़ेल दिया।

जानकारी के अनुसार नगर के दाऊपारा से रामगढ़ रोड पर मनोज श्रीवास पिता सम्पतलाल उम्र 20 वर्ष का सैलून है। सोमवार की शाम वह अपनी दुकान में काम कर रहा था।

इसी दौरान शाम लगभग साढ़े पांच बजे अचानक जाफर खान पिता जब्बार खान सेलून में जाकर तोड़-फोड़ करने लगा। इसके साथ ही वह जरीकेन में पेट्रोल लेकर आया था, जिसे मनोज के ऊपर उड़ेल दिया। इसके बाद आरोपी ने उसे आग लगाकर जलाने की कोशिश की।

आरोपी आग लगा पाता इससे पहले मनोज वहां से भाग निकला और सिटी कोतवाली पहुंचा और पुलिस को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने पीड़ित की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही जाफर खान को गिरफ्तार कर लिया।

मालूम हो कि आरोपी जाफर जुलाई महीने में मनुराज टॉकीज के मैनेजर को जलाकर मारने के आरोप में जेल भेजा गया था। डेढ़ महीने पहले ही जमानत पर बाहर आया है।

यह हुई थी मनुराज टॉकीज में घटना

दो जुलाई की रात मुख्य सड़क स्थित मनुराज टॉकीज में एक छत्तीसगढ़ी फिल्म चल रही थी। इसी दौरान दो युवक सिनेमा देख रही महिला के साथ छेड़खानी करने लगे।

जिस पर टॉकीज के कर्मचारियों ने महिलाओं से छेड़खानी का विरोध किया और मामले की जानकारी पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस के पहुंचने पर एक आरोपी फरार हो गया और एक को पुलिस ने हिरासत में लेकर छोड़ दिया।

इसके बाद रात लगभग 7 बजे दोनों युवकों ने टॉकीज के टिकिट काउंटर में घुसकर कार्यरत कर्मचारी ओमप्रकाश पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। जिससे ओमप्रकाश बुरी तरह झुलस कर जल गया। वहीं टॉकीज का एक दूसरा कर्मचारी भी इसकी चपेट में आकर व भी झुलस कर जल कर गया।

काउंटर में कार्यरत एक अन्य कर्मचारी को भी हल्की चोटें आईं। इसमें ओमप्रकाश 40 से 50 प्रतिशत जल गया था और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इस मामले में जाफर खान भी आरोपी था।

जिसे गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया था। डेढ़ महीने पहले ही वह जमानत पर जेल से बाहर आया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button