खास खबरदेश

महाराष्ट्र में आज पहला उद्धव कैबिनेट का विस्तार, फिर उपमुख्यमंत्री बनेंगे अजित पवार

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में आज पहला कैबिनेट गठन

मुंबई. महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी महा अघाड़ी सरकार के गठन के करीब एक महीने बाद आज पहला कैबिनेट विस्तार होने वाला है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता अजित पवार उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.मंत्रिमंडल विस्तार में मुख्यमंंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे का मंत्री बनना भी तय हो गया है.शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस से 36 नए मंत्रियों को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा।

सुनील राउत दे सकते हैं विधायक पद से इस्तीफा

इस सूची में शिवसेना सांसद संजय राउत के भाई सुनील राउत का नाम शामिल नहीं है।

शिवसेना से ये बन सकते हैं मंत्री

शिवसेना से आदित्य ठाकरे, उदय सामंत, अब्दुल सत्तार, शंकर गडख, अनिल परब, संदीपन भूमरे, शंभुराज देसाई, येदगाउकर, संजय राठौड़, गुलाब पाटिल और दादा भूसे को मंत्री बनाया जा सकता है।

एनसीपी से ये नेता ले सकते हैं मंत्री पद की शपथ

एनसीपी से धरमराव अत्रम, राजेश टोपे, धनंजय मुंडे, नवाब मलिक, संग्राम जगतप, हसन मुशरीफ, अनिल देशमुख, अदिति तटकरे और राजू शेट्टी के मंत्री बनाए जाने की संभावना है.इससे पहले एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने यह कहकर मुद्दे को हवा देना का काम किया था कि एनसीपी कार्यकर्ता अजित पवार को राज्य के उप मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं.उद्धव ने 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण की थी.उस समारोह में छह मंत्रियों की छोटी सी कैबिनेट ने भी शपथ ग्रहण की थी जिसमें तीनों ही दलों की तरफ से दो-दो मंत्री शामिल थे।

दो बार डिप्टी सीएम रह चुके हैं अजित

शरद पवार के भतीजे अजित 2014 से पूर्व कांग्रेस-एनसीपी सरकार में भी उपमुख्यमंत्री थे.इस विधानसभा चुनाव के बाद अजित 23 नवंबर को अचानक भाजपा के साथ चले गए थे और देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार में डिप्टी सीएम बने थे.हालांकि 80 घंटे के अंदर ही अजीत ने इस्तीफा दिया और फडणवीस सरकार गिर गई.ठाकरे के नेतृत्व में 28 नवंबर को शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस के छह मंत्रियों ने भी शपथ ली थी।

36 मंत्री ले सकते हैं शपथ

कैबिनेट विस्तार में लगभग 36 मंत्री शपथ ले सकते हैं.फिलहाल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में उनके अलावा छह मंत्री हैं.शिवसेना, एनसपी और कांग्रेस के बीच हुए सत्ता साझेदारी के तहत शिवसेना के पास मुख्यमंत्री के अलावा 16 मंत्री हो सकते हैं, इसके अलावा एनसीपी के 14 और कांग्रेस के 12 मंत्री होंगे.कांग्रेस ने 12 मंत्री होने की पुष्टि कर दी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button