खास खबर

अमित शाह बोले- जिसे विरोध करना हो करे, CAA वापस नहीं होने वाला

अमित शाह ने 3 महीने में राम मंदिर बनाने का दावा

लखनऊ. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में एक रैली को संबोधित किया. उत्तर प्रदेश के लखनऊ में हुई इस रैली में शाह ने विपक्ष पर खूब हमला बोला. उन्होंने कहा विपक्ष की आंखों पर वोट बैंक की पट्टी बंधी है, जिसको विरोध करना हो करे, मगर सीएए वापस नहीं होने वाला है. शाह ने विपक्षी दलों को सीएए पर बहस की चुनौती भी दी.
अमित शाह70 साल से पीड़ित लोगों को मोदी जी ने जीवन का नया अध्याय शुरू करने का मौका दिया है. जिसको विरोध करना है कर ले अब ये वापस नहीं होगा. इस बिल को लोकसभा में मैंने पेश किया है. मैं विपक्षियों से कहना चाहता हूं कि आप इस बिल पर सार्वजनिक रूप से चर्चा कर लो. ये अगर किसी भी व्यक्ति की नागरिकता ले सकता है, तो उसे साबित करके दिखाओ.

गृह मंत्री ने सीएए का विरोध करने वाली कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों से पूछा ”जब पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में करोड़ों लोग धर्म के आधार पर मारे गये तब आप कहां थे. कश्मीर से पांच लाख पंडितों को विस्थापित किया गया, मगर इन दलों के मुंह से एक शब्द नहीं निकला. आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्षों से प्रताड़ित लोगों को अपने जीवन का नया अध्याय शुरू करने का मौका दिया है.

3 महीने में राम मंदिर बनाने का दावा

अमित शाह ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को अपनी सरकार की उपलब्धि बताते हुए दावा किया कि अयोध्या में तीन महीने के अंदर आसमान छूता हुआ मंदिर बनेगा.

विपक्ष पर हमला बोलते हुए अमित शाह ने कहा- मोदी जी एक बिल लेकर आए नागरिकता संशोधन कानून लेकर आए और इसके खिलाफ राहुल बाबा एंड कंपनी, ममता, अखिलेश जी, बहन मायावती सारी ब्रिगेड काऊ-काऊ करने लगी.

अमित शाह ने कहा CAA के खिलाफ प्रचार किया जा रहा है कि सीएए के कारण मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी. मैं ममता दी, राहुल बाबा को चैलेंज देता हूं कि जिसमें भी हिम्मत है आकर चर्चा कर ले. मैं इसके लिए तैयार हूं. देश में भ्रम फैलाया जा रहा, दंगे कराए जा रहे हैं. इस बिल के अंदर किसी के भी नागरिकता छीनने का कोई प्रावधान नहीं है.

लखनऊ में महिलाएं कर रही हैं प्रदर्शन

राजधानी के घंटाघर पार्क में मुस्लिम महिलाएं सीएए के विरोध में धरना दे रही हैं. लिहाजा सीएए के समर्थन में अपनी रैली को धार देने और विरोधियों को बेनकाब करने के लिए बीजेपी ने मुकम्मल व्यवस्था की है. रैली में सीएए से लाभांवित होने वाले शरणार्थी भी होंगे, जिनमें से कुछ अमित शाह का अभिनंदन भी करेंगे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button