खास खबरबिज़नेस

बैंककर्मियों की हड़ताल: नकदी जमा और निकासी, चेक क्लीरेंस जैसी सेवाएं होंगी प्रभावित

बैंक यूनियनों ने दो ‎दिन की हड़ताल की घोषणा की है

नई दिल्ली. सरकार के साथ बातचीत विफल रहने के बाद तमाम बैंक यूनियनों ने दो ‎दिन की हड़ताल की घोषणा की है. देशव्यापी हड़ताल की वजह से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में नकदी निकासी और जमा समेत विभिन्न सेवाएं प्रभावित हुईं. बैंक कर्मचारियों के संगठन वेतन वृद्धि की मांग को लेकर 31 जनवरी से दो दिन की हड़ताल पर हैं.

हालांकि आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक जैसे निजी क्षेत्र के बैंक खुले हैं. बैंककर्मियों की हड़ताल से नकदी जमा और निकासी, चेक क्लीरेंस और कर्ज वितरण जैसी सेवाएं प्रभावित होंगी. उल्लेखनीय है कि बैंक रविवार समेत लगातार तीन दिन बंद रहेंगे. सरकारी बैंकों की हड़ताल ऐसे समय हो रही है जब शुक्रवार से बजट सत्र शुरू हो रहा है और शनिवार को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश किया जाना है.

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) ने इस हड़ताल का आह्वान किया है. यह ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फेडरेशन (एआईबीओसी), ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉयज एसोसिएशन (एआईबीईए) और नेशनल आर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स समेत नौ कर्मचारी संगठनों का निकाय है. यूनियन का दावा है कि सार्वजनिक बैंकों और निजी क्षेत्र के कुछ बैंकों के करीब 10 लाख कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल में भाग ले रहे हैं. जानकारी के मुताबिक देश के कई हिस्सों में सार्वजनिक बैंकों की शाखाएं बंद हैं. बैंक कर्मचारियों के वेतन संशोधन का मामला नवंबर 2017 से लंबित है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button