खास खबरछत्तीसगढ़

प्रदेश के पुलिसकर्मियों को मिलेंगे सरकारी मोबाइल, रिटायर होते तक रहेंगे पास

अब तक जिले के एसपी, एडिशनल एसपी, सीएसपी और थानेदारों को ही नंबर दिए जाते थे

रायपुर. प्रदेश के सभी पुलिसकर्मियों को सरकारी मोबाइल सिम कार्ड दिए जायेंगे. और वह रिटायर होते तक उनके पास रहेंगे. यानी ट्रांसफर या नई पोस्टिंग के बाद नंबर को जिले में जमा नहीं करना पड़ेगा. अब तक जिले के एसपी, एडिशनल एसपी, सीएसपी और थानेदारों को ही नंबर दिए जाते हैं, लेकिन पहली बार आरक्षक, हवलदार और एएसआई को भी ये नंबर दिए जाएंगे.

इसके लिए पुलिस मुख्यालय ने बीएसएनएल के 50 हजार मोबाइल सिम की खरीदी की है. ये सिम कार्ड सभी जिलों में भेज दिए गए हैं. रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव और बिलासपुर में पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों को सिम कार्ड बांटने की शुरुआत कर दी गई है. इसके बाद छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल में पदस्थ अफसर-जवानों के लिए 20 हजार सिम कार्ड खरीदे जाएंगे. इस तरह 76 हजार पुलिस अफसर व जवानों को सीयूजी (क्लोज्ड यूजर ग्रुप) नंबर दिए जाएंगे.

फ्री में होगी अफसर-जवानों की बात : अब तक मुख्यालय के अफसर, जिलों में कप्तान से थानेदार तक के लिए ही सीयूजी नंबर बांटे गए थे. फील्ड में काम करने वाले आरक्षक, हवलदार या एएसआई के पास नंबर नहीं होते थे. इन्हें अपने पैसे से रिचार्ज कराना होता था. सीयूजी नंबर होने से फ्री में बात हो सकेगी. 100 रुपए का बैलेंस व हर दिन एक जीबी डाटा मिलेगा.

अफसरों के लिए हो जाएंगे दो नंबर

इससे पहले पुलिस मुख्यालय ने रेंज के आईजी जिलों में एसपी, एडिशनल एसपी, सीएसपी व थानेदारों के लिए एक ही सीरिज के नंबर जारी किए थे. ये नंबर संबंधित पदों के लिए थे. ये नंबर अभी भी बने रहेंगे. अफसरों को ये नंबर भी साथ लेकर चलना होगा. इसके अलावा उन्हें जो व्यक्तिगत नंबर दिया जाएगा, वह भी साथ रखना होगा. इन नंबरों का ऑनलाइन रिकॉर्ड होगा, ताकि अधिकारियों को भी उनसे संपर्क करने के लिए किसी को बोलना न पड़े. उनका नाम और जिला टाइप करने पर उनका नंबर दिखाई देने लगेगा. इससे आम लोगों को भी सुविधा होगी. एक बार किसी सिपाही या अधिकारी का नंबर सेव कर लिए तो उसी नंबर पर उनकी बातचीत होगी. इस नंबर पर वाट्सएप पर भी रहेगा.

सभी जिलों में सीयूजी नंबर पहुंचा दिए गए हैं. जल्द ही बटालियन के लिए भी खरीदी की जाएगी. पुलिस की नौकरी करने वाले हर अफसर-कर्मचारी का अब सरकारी नंबर होगा, जो उनके सर्विस तक रहेगा. -आरके विज, एडीजी तकनीकी सेवा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button