खास खबरविदेश

6 साल का मासूम दादा के शव के साथ कई दिनों तक घर में अकेले बंद रहा

- कोरोना वायरस की वजह

चीन के शियान शहर में एक मासूम पोता अपने दादा के शव के साथ कई दिनों तक घर में अकेले बंद रहा. हुबेई प्रांत के शियान शहर से दिल दहला देने वाली इस घटना का पता तब चला जब स्थानीय कम्यूनिटी वर्करों की टीम ने घर का निरीक्षण किया. इस दौरान उन्हें घर में एक 6 साल का अकेला बच्चा मिला जो कि अपने मृत दादा के शव के साथ रह रहा था. इस 6 साल के बच्चे को घर में अपने दादा को मरते देखने को मजबूर होना पड़ा. वो किसी मदद के लिए घर से बाहर इसलिए नहीं निकल सका क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से बाहर निकलने पर सख्त पाबंदी थी.

शियान शहर में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए युद्धस्तर पर कदम उठाए गए हैं और लोगों के घरों से बाहर निकलने पर सख्त पाबंदी है. सोमवार को जब स्थानीय कम्यूनिटी वर्करों की टीम ने एक घर का दौरा किया तो उन्हें घर से तान नाम के बुजुर्ग का शव बरामद हुआ और साथ ही एक मासूम बच्चा भी घर पर अकेला मिला.

कोरोना वायरस की पाबंदी की वजह से

शुरुआती जांच मे ये सामने आया कि बुजुर्ग की कई दिन पहले ही मौत हो गई थी. जबकि बच्चा कोरोना वायरस की पाबंदी की वजह से घर के बाहर नहीं जा सका था. जब बच्चे से पूछा गया कि उसने बाहर जाकर मदद क्यों नहीं मांगी तो उसने जवाब दिया कि, ‘दादा जी ने बाहर जाने से मना किया था. बताया था कि बाहर वायरस है.’

कई दिनों से मासूम केवल बिस्किट्स पर ही खाने के लिए निर्भर था. इस घटना के बाद से चीन सरकार के लॉक डाउन पर सवाल उठ रहे हैं. दरअसल, लॉक डाउन के बाद लोगों को उनके घरों में उनके हाल पर जीने और मरने के लिए नहीं छोड़ दिया जाता है. कम्यूनिटी वर्कर लॉक डाउन की स्थिति में हर दिन बंद घरों का निरीक्षण करते हैं. घरों में बंद लोगों से उनकी जरूरत के सामान के बारे में रोज़ पूछा जाता है और उसकी सप्लाई भी की जाती है. यहां तक कि उनके घरों के तापमान के बारे में भी पूछा जाता है. ऐसे में तान की मौत और बच्चे का हॉलीवुड की फिल्म होम अलॉन की तरह घर में बंद रहना कई सवाल खड़े करता है. इस घटना के बाद चीन में गुस्से की लहर दौड़ पड़ी है और लोग ऑन लाइन अपने गुस्से का इज़हार कर रहे हैं. बहरहाल, तान की मौत की जांच अभी नहीं हुई है. पोते को कानून के तहत देखभाल केंद्र भेज दिया गया है. मासूम बच्चे का पिता गुआंग शी प्रांत में मौजूद है और वो लॉकडाउन की वजह से घर नहीं लौट सका है.

कोई भी बाहरी व्यक्ति यहां प्रवेश नहीं

फरवरी महीने की शुरुआत में ही कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से दफ्तरों और घरों को सील कर दिया गया था. कोई भी बाहरी व्यक्ति यहां प्रवेश नहीं कर सकता था. केवल स्वास्थ्य कर्मचारी और आवश्यक आपूर्ति प्रदान करने वाले लोग ही सड़कों पर निकल सकते थे.

कोरोना वायरस के कहर की वजह से चीन के कई शहरों में लॉकडाउन किया जा चुका है. चीन सरकार कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए युद्धस्तर पर सख्ती बरत रही है. लेकिन ऐसी ही सख्तियों के बीच कोरोना वायरस के कहर के कारण बंद घरों से त्रासदी की खबरें बाहर निकल रही हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button