खास खबरछत्तीसगढ़

CM भूपेश के निर्देश पर स्कूलों में सूखा मध्यान्ह भोजन का वितरण प्रारंभ

प्रदेश के लगभग 29 लाख बच्चों को मिलेगा लाभ

राज्य में फ्लेक्सी मद से 4 जिलों और मुख्यमंत्री अमृत योजना के तहत 2 जिलों में सुगंधित सोया मीठा दूध भी पिलाया गया

रायपुर: नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम के उद्देश्य से राज्य शासन ने सभी स्कूल लॉकडाउन की स्थिति में 14 अप्रैल तक बंद कर दिए है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर अवकाश अवधि में स्कूली बच्चों को मध्यान्ह भोजन दिए जाने का निर्णय लिया गया है।

राज्य के लगभग 29 लाख बच्चों को मध्यान्ह भोजन योजना का लाभ उठाते हैं। जिसमें 18 लाख प्राथमिक स्कूल के और 11 लाख बच्चे अपर प्राथमिक शाला में अध्ययनरत हैं।शासन के निर्देशानुसार राज्य के सभी 28 जिलों में मध्यान्ह भोजन योजना अंतर्गत सूखा राशन वितरण किया गया। इसके वितरण के लिए 3 और 4 अप्रैल की तिथि निर्धारित है। यदि वितरण 2 दिन में पूरा नहीं होता तो इसे और आगे भी बढ़ाया जाएगा।

स्कूलों में सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए राशन का वितरण किया जा रहा है। कुछ जिलों में परिस्थिति अनुसार घर-घर पहुंचाकर राशन दिया जा रहा है, तो कहीं स्कूल में ही इसका वितरण किया जा रहा है। स्कूल शिक्षा विभाग को जिलों से प्राप्त सूचना के अनुसार आज राज्य के लगभग 65 प्रतिशत बच्चों को राशन का वितरण किया गया। स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि फ्लेक्सी मद से 4 जिलों में और मुख्यमंत्री अमृत योजना के तहत 2 जिलों में सुगंधित सोया मीठा दूध पूरी सावधानी से पिलाने के निर्देश दिए गए है।

जिला एवं राज्य स्तर के अधिकारी सूखा राशन वितरण की सतत् माॅिनटरिंग कर रहे

जिलों में भण्डारित सोया दूध को भी आज से बच्चों को पिलाने का कार्य प्रारंभ किया गया है। इनमें गरियाबंद, सूरजपुर, कोरिया, कबीरधाम, बस्तर और दुर्ग जिले शामिल हैं। राज्य के दो विकासखण्ड पेण्ड्रा और खड़गवां में सुबह का नास्ता नवाचार के रूप में दिया जा रहा था। इसका सूखा खाद्य सामग्री भी स्कूल बंद होने के पहले से भंडारित थी आज से उसे भी सूखा राशन के साथ वितरण का कार्य प्रारंभ किया गया है। जिला एवं राज्य स्तर के अधिकारी सूखा राशन वितरण की सतत् माॅिनटरिंग कर रहे हैं।

शासन के निर्देशानुसार मध्यान्ह भोजन मार्च एवं अप्रैल 2020 के लिए 40 दिन का सूखा दाल और चावल बच्चों के पालकों को स्कूल से प्रदाय किया जा रहा है। प्राथमिक शाला के प्रत्येक बच्चे को 4 किलोग्राम चावल और 800 ग्राम दाल तथा उच्चतर माध्यमिक शाला के प्रत्येक बच्चे को 6 किलोग्राम चावल और 1200 ग्राम दाल दिया जा रहा है।

रायपुर ग्रामीण विधासभा क्षेत्र में वितरण की व्यवस्था का आज स्थानीय विधायक सत्यनारायण शर्मा ने जायजा लिया। बीरगांव नगर निगम क्षेत्र की पूर्व माध्यमिक शालाओं में पालकों को नियत वजन के अनुसार चावल और दाल का वितरण किया गया। इस अवसर पर जिला शिक्षा अधिकारी जी.आर. चन्द्राकर और समन्वयक भी उपस्थित थे।

विधायक सत्यनारायण शर्मा इस अवसर पर 3 फीट की दूरी और चेहरे पर कपड़ा या मास्क लगाने की बात लोगों से कही। अधिकारियों ने बताया कि शासकीय प्राथमिक शाला मोवा में आज सुबह 7.30 बजे से 11.30 बजे तक दर्ज 375 बच्चों में से 281 बच्चों के पालकों को चावल-दाल का वितरण किया गया।

इसी प्रकार प्राथमिक शाला कांपा लोधीपारा में दर्ज 237 में से 192, प्राथमिक शाला शहीद भगत सिंह पंडरी में दर्ज 160 में से 118, पूर्व माध्यमिक शाला दलदल सिवनी में दर्ज 261 में से 172, पूर्व माध्यमिक शाला सड्डू में दर्ज 314 में से 249, प्राथमिक शाला सड्डू में दर्ज 577 में 424 और पूर्व माध्यमिक शाला मोवा में दर्ज 410 में से 253 बच्चों के पालकों को निर्धारित मात्रा अनुसार चावल और दाल का वितरण किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button