खास खबरदेश

BJP नेता बारी की सुरक्षा में तैनात थे 10 पुलिसकर्मी, फिर भी परिवार सहित हत्या

बौखलाहट में नेताओं को मार रहे आतंकवादी

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में बीते 4 सालों में बीजेपी के 3 वरिष्ठ नेताओं को मौत के नींद सुला दिया गया। घटना को लेकर आक्रोश है।

खुद पीएम मोदी ने बांदीपोरा में बीजेपी नेता बारी की हत्या पर शोक का इजहार किया है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वसीम बारी की हत्या पर बयान दिया है कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

इससे पहले 2 नवंबर 2017 को शोपियां में भाजपा की युवा इकाई के जिला प्रधान गौहर बट को किडनैप किया गया, फिर उनकी सिर कटी लाश मिली थी। मई 2019 में अनंतनाग के नौगाम वेरीनाग में आतंकियों ने भाजपा के बुजुर्ग नेता गुल मोहम्मद मीर अटल को गोलियों से भून दिया था।

कश्मीरी पंडित सरपंच की हत्‍या पर हुआ था बवाल

इसी साल जून महीने में अनंतनाग में आतंकियों ने कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता को गोली मार दी थी। जिहादी संगठन द रजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) ने पंडिता की हत्या की जिम्मेदारी ली थी। अजय पंडिता कांग्रेस पार्टी से जुड़े थे।

बौखलाहट में नेताओं को मार रहे आतंकवादी

कश्मीरी मामलों के जानकार कहते हैं कि आतंकवादियों की कमर टूट रही है। लिहाजा वे बौखलाहट में सियासी नेताओं को निशाना बना रहे हैं। सुरक्षा बलों का मानना है कि कश्मीर घाटी में 170 के करीब आतंकवादी सक्रिय हैं। जिनके लिए सेना और अर्द्धसैनिक बलों ने टॉप 10 लिस्ट बनाई है। सुरक्षाबलों के लिए अच्छी बात ये है कि अब उन्हें स्थानीय लोगों का समर्थन भी मिलने लगा है। कश्मीर के लोग अब खुले दिल से पलायन कर चुके कश्मीरी पंडितों को घर वापसी का न्यौता दे रहे हैं। इन सब बातों से आतंकवादी घबराये हुए हैं।

बांदीपोरा में बीती रात किया बड़ा हमला

उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा में आतंकवादियों ने भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य और पूर्व जिला प्रधान शेख वसीम उर्फ वसीम बारी, उनके भाई उमर सुल्तान और पिता बशीर शेख की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। उमर भाजपा की जिला युवा इकाई का सदस्य थे, जबकि उनके पिता बशीर शेख भाजपा के जिला उपाध्यक्ष रह चुके थे। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके में कॉम्बिंग ऑपरेशन शुरू कर दिया है।

बुरहान वानी की बरसी पर घटना को दिया अंजाम

बुधवार (8 जुलाई) को ही कुख्यात हिजबुल आतंकी बुरहान वानी की चौथी बरसी थी। बांडीपोरा के मुस्लिमाबाद इलाके में आतंकवादियों के एक जत्थे ने हमला कर दिया। जिस समय हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया भाजपा नेता अपने भाई और पिता के साथ दुकान पर थे।

बांदीपोर पुलिस स्टेशन के पास ही बीजेपी नेता की परिवार समेत हत्या से पूरे जम्मू कश्मीर में सनसनी है। खून से लथपथ तीनों गंभीर रूप से घायल होकर जमीन पर गिर पड़े। काफी देर तक उनकी मदद के लिए कोई नहीं पहुंचा। फिर पुलिस की मदद से उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने माना कि भाजपा नेता की सुरक्षा में तैनात सभी 10 पुलिसकíमयों व एसपीओ से पूछताछ की जा रही है। ऐसा लगता है कि ये सभी अपना कर्तव्य ठीक से निभा नहीं सके।

भारत को दिलो जान से चाहते थे वसीम बारी

भाजपा नेता शेख वसीम पक्के राष्ट्रवादी थे। लोग अक्सर उन्हें तिरंगे के साथ घूमते देखते थे। शेख वसीम और उनके परिजनों की जान को खतरा का अंदेशा था। लिहाजा उनके घर पर आइटीबीपी के जवानों का एक दस्ता तैनात किया गया था। हालांकि बीते महीने ही इस दस्ते को हटाकर एक दर्जन पुलिस और एसपीओ को उनकी सुरक्षा में तैनात किया गया था।

वसीम बारी की हत्या से पीएम दुखी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बारी की हत्या के बारे में खुद जानकारी ली। साथ ही बयान जारी कर घटना को लेकर दुख का इजहार किया। वहीं भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नेड्डा ने भी ट्वीट कर कहा कि हमने बांदीपोरा में आतंकियों के कायराना हमले में शेख वसीम बारी, उनके भाई और पिता को खो दिया है। यह पार्टी की बड़ी क्षति है। मेरी गहरी संवेदनाएं परिवार के साथ हैं। पूरी पार्टी शोक संतप्‍त परिवार के साथ खड़ी है। मैं विश्‍वास दिलाता हूं कि शेख वसीम बारी, उनके भाई और पिता का बलिदान व्‍यर्थ नहीं जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button