खास खबरछत्तीसगढ़देश

छत्तीसगढ़ की बोहार भाजी आखिर क्यों है सबसे महंगी

इसकी क्या-क्या हैं खूबियां?

धमतरी. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में खान पान का एक अलग ही रवैया है. यहां के लोग भाजी खूब खाते हैं और छत्तीसगढ़िया भाजियों में सबसे महंगी होती है बोहार भाजी. भले ही ये साल भर में कुछ दिनों तक ही मिल पाती है. लेकिन इसके लाजवाब स्वाद के लिये लोग हर कीमत देने को तैयार रहते है. बोहार भाजी 400 रुपये किलो तक बिकती है. कहते हैं कि खान पान का तरीका. किसी भी जगह की प्राकृतिक और भौगोलिक स्थिति पर निर्भर करता है. छत्तीसगढ़ की बात करें तो यहां मैदानी और जंगली इलाके ज्यादा है. लिहाजा सब्जीयों में भाजी का भी खूब इस्तेमाल होता है. आम भाजीयों में पालक, चौलाई, मैथी और लाल भाजी तो खाए ही जाते है. साथ में कई तरह की और लोकल भाजी यहां लोक प्रिय है और इन्ही में से एक है बोहार भाजी.

 

बोहार भाजी कई मामलो में खास है. इसकी सबसे बड़ी खासियत इसका बेमिसाल स्वाद है. आप जान कर हैरान होंगे कि ये भाजी बाजार में 400 रुपये किलो तक बिकती है. इसकी वजह ये है कि बोहार भाजी साल भर में कुछ दिनो के लिये ही मिलती है. हर साल मार्च अप्रेल माह में ही कभी कभी ये बाजार में पहुंचती है. इसके स्वाद के लिये लोग उंची कीमत चुकाने को भी तैयार रहते हैं. धमतरी में सब्जी भाजियों का काम करने वाले रामनाथ सोनकर बताते हैं कि बोहार छत्तीसगढ़ की सबसे महंगी भाजी क्यों है. आम तौर पर भाजी की फसल पौधो के रूप में होती है, लेकिन बोहार भाजी.

यहां मिलती है बोहार भाजी
बोहार के उंचे पेड़ पर मिलती है. ये भाजी दरअसल बोहार की कलियां और कोमल पत्ते होते है, जो कुछ दिनो में फूल बन जाते है. इन्हें फूल बनने से पहले ही तोड़ना होता है. तभी ये खाने के काम आ पाती है. उंचे पेड़ की पतली डालीयों तक पहुंच कर सिर्फ कलीयों को अलग से तोड़ना भी आसान नहीं है. इसमें खतरा तो रहता ही है. जानकारी भी जरूरी होती है. इसलिये बोहार की भाजी तोड़ना हर किसी के बस की बात भी नहीं होती. धमतरी शहर की बात करें तो पूरे शहर में दो या तीन ही बोहार के पेड़ है. धमतरी में रहने वाले आर्यन सोनकर के घर भी एक पेड़ है, जो 100 साल पुराना है. आर्यन बताते हैं कि हर सीजन में इसकी भाजी बेच कर मोटी कमाई हो जाती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button