छत्तीसगढ़शिक्षा

CG : जेठानी-देवरानी और ननद-भौजाई ने मिलकर दी परीक्षा

बलौदाबाजार। मिशन साक्षरता के तत्वाधान में पढ़ना लिखना अभियान के अंतर्गत जिले में शुक्रवार को महापरीक्षा का आयोजन किया गया। जिसमें 59 पंजीकृत शिक्षार्थियों ने हिस्सा लिया। शुक्रवार को आयोजित इस महापरीक्षा के अंतर्गत जिले में कई दिलचस्प नजारे देखने को मिले।

शिक्षार्थियों में एक साथ सास-बहू, मां-बेटी, देवरानी-जेठानी, ननद-भौजाई तथा गोद लिए बच्चों के साथ उत्साह के साथ परीक्षा दिलाए। कलेक्टर व अध्यक्ष जिला साक्षरता मिशन प्राधिकरण के अध्यक्ष सुनील कुमार जैन के मार्गदर्शन में परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्ना हुई। परीक्षा के लिए पंजीकृत सभी 6621 शिक्षार्थी 121 केंद्रों पर शामिल हुए।

गौरतलब है कि शिक्षार्थियों को एनएसएस, एनसीसी, स्काउट गाइड व स्कूली बच्चों द्वारा 120 घंटे का प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान निरक्षरों को मूलभूत शिक्षा प्रदान की गई व उन्हें पढ़ना, लिखना सिखाया गया। इस संपूर्ण कार्यक्रम में कलेक्टर सुनील कुमार जैन व जिला पंचायत की सीईओ डा. फरिहा आलम सिद्घिकी का लगातार मार्गदर्शन मिला। शिक्षार्थी पर्ची का वितरण स्वयंसेवी शिक्षकों व ग्राम, वार्ड प्रभारी तथा केंद्र प्रभारी द्वारा घर-घर जाकर दिए गए। साक्षर बनने बुजुर्गों ने उत्साह दिखाया। ग्रामों व वार्डों में मुनादी भी कराई गई।

परीक्षा के आयोजन के दौरान जिला साक्षरता समन्वयक सोमेश्वर राव, जिला नोडल अधिकारी जाकिर अब्बास, विकासखंड शिक्षा अधिकारी एसके गेंदले, सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी राकेश सिंह राजपूत, डीएस ठाकुर, विकासखंड नोडल आशीष शर्मा व संकुल समन्वयक राजकुमार घृतलहरे, जल सुमित महोबिया ने आकस्मिक निरीक्षण व अवलोकन किया। इस अवसर पर परीक्षा केंद्राध्यक्ष निहारिका तिवारी, पर्यवेक्षक लक्ष्मी मानिकपुरी, मंजूषा सोनकर, स्वयंसेवी शिक्षक उषा भट्ट, प्रियंका भट्ट, भावना भट्ट, दीपेश भट्ट उपस्थित थे।

जिला शिक्षा अधिकारी सीएस धु्रव, जिला परियोजना अधिकारी आर. सोमेश्वर राव सहित नोडल अधिकारी जहीर अब्बास सहित शिक्षा व राजीव गांधी शिक्षा मिशन के अधिकारियों ने बार-बार निरीक्षण किया। इस परीक्षा को सफल बनाने में स्रोत व्यक्ति, कुशल प्रशिक्षक, स्वयंसेवी शिक्षक आदि का विशेष योगदान रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button