देश

महाराष्ट्र बंद में सत्ताधारी गठबंधन की गुंडई, जगह-जगह जाम की सड़कें सरकारी बसों में तोड़फोड़, ऑटो रिक्शा वालों की पिटाई, पत्थरबाजी

नई दिल्ली । उत्तरप्रदेश प्रदेश के लखीमपुर खीरी किसान हिंसा मामले में भाजपा नेता और केंद्रीय गृह राज्यमत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ के बेटे आशीष मोनू की गिरफ़्तारी के बावजूद महाराष्ट्र के सत्ताधारी गठबंधन ने सोमवार (11 अक्टूबर, 2021) को बंद का ऐलान किया। बंद के नाम पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह सड़कें जाम कर दी और वहाँ टायर जलाए। NCP और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने भी बंद में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया।

हालाँकि, भाजपा ने इस बंद का विरोध किया है। विखरोली में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने टायर जला कर ईस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे को ही जाम कर दिया। ठाणे में भाजपा के नगर अध्यक्ष व विधान पार्षद निरंजन डावखरे ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार की एजेंसियों द्वारा व्यापारियों और दुकानदारों को कॉल कर के धमकाया जा रहा है कि वो अपना कारोबार बंद रखें। उन्होंने कहा कि पुलिस जबरन दबाव डाल कर कारोबार ठप्प करा रही है।

ठाणे में यात्रियों को ले रहा रही ऑटो और कैब्स को भी निशाना बनाया गया और तोड़फोड़ मचाई गई। साथ ही यात्रियों को बीच रास्ते में ही उतरवा दिया गया। नवीं मुंबई के APMC बाजार को भी बंद रखा गया है। उधर BEST की चार सरकारी बसों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया, लेकिन NCP के प्रदेश अध्यक्ष व मंत्री जयंत पाटिल ने कहा कि बंद शांतिपूर्ण है और बसों में तोड़फोड़ करने वालों को चिह्नित कर कार्रवाई की जाएगी।

NCP नेता व मंत्री नवाब मलिक का दावा है कि आज बुलाए गए बंद को सभी ट्रेड यूनियनों और वामपंथी दलों का भी समर्थन मिला है। वहीं कुछेक ऑटो वाले यात्रियों से मनचाहा किराया वसूल रहे हैं। कहीं-कहीं ऑटो वालों ने दोगुना किराया लिया। नासिक में भी सभी APMC बाजारों को बंद कर दिया गया। धारावी, मानखुर्द, शिवाजी नगर, चारकोप, ओशिवारा, देवनार और मलाड में BEST की बसों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया।

शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने इस बंद को सफल करार दिया है। ‘फेडरेशन ऑफ रिटेल ट्रेडर्स वेलफेयर एसोसिएशन’ ने सरकार के आग्रह के बाद बाजारों को बंद रखने का निर्णय लिया। यहाँ तक कि राज्य में ज़रूरी सामग्रियों का ट्रांसपोर्टेशन भी बाधित हुआ है। ठाणे में NCP कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली। मुंबई में फल-सब्जी बेचने आए ठेले वालों को पहले ही हटा दिया गया। अधिकतर होटल भी बंद हैं।

वही मुंबई में राजभवन के बाहर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। ठाणे में ‘आनंद आश्रम’ के सामने शिवसैनिकों ने ऑटो रिक्शा वालों की पिटाई कर के उन्हें वापस जाने को कहा। औरंगाबाद में भी दुकानों को नहीं खुलने दिया गया। मुंबई में कहीं-कहीं पत्थरबाजी भी हुई। चेम्बूर में शिवसैनिकों ने जाम लगाया। भाजपा ने जबरन दुकानें बंद करवाने का विरोध किया है। भाजपा ने कहा कि महाराष्ट्र की समस्याओं को नजरअंदाज कर MVA दूसरे राज्यों के मुद्दे पर बंद बुला रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button